UPSC Syllabus In Hindi 2021 | CSE, IAS, IPS, IFS, IRS Syllabus For Prelims & Mains Download PDF

UPSC Syllabus 2021 | IAS, IPS, IRS, IFS Syllabus 2021 PDF Download For Prelims & Mains Exam In Hindi @www.upsc.gov.in

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन [यूपीएससी] ‘आईएस, आईपीएस, आईएफएस और आईआरएस‘ के सिलेबस एवं लेटेस्ट एग्जाम पैटर्न डाउनलोड [हिंदी में]: किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में सफल होने का सबसे प्रभावी तरीका उस परीक्षा में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के पैटर्न एवं उसके कठिनाई स्तर से अच्छी तरह वाकिफ होना है.

यहाँ पर IAS/ IPS/ IFS एवं IRS के लिए UPSC Syllabus 2021 के लेटेस्ट पैटर्न को विस्तृत रूप से प्रकाशित किया जा रहा है, ताकि परीक्षार्थी इसका पूर्ण रूप से विश्लेषण करके अपनी तैयारी कर सके.

SHORT INFO: [2021] UPSC syllabus | आईएएस सिलेबस इन हिंदी पीडीऍफ़ डाउनलोड २०२१ | यूपीएससी मेंस एग्जाम सिलेबस | हिंदी साहित्य | IAS Syllabus | UPSC Prelims Syllabus | UPSC Mains Syllabus In Hindi | UPSC CSE Syllabus | Geography Optional, Maths Optional, PSIR, GS Paper 1, Public Administration, History, GS 3, GS Paper 2, Marathi, Polity, Economics, Sociology, Law, Political Science, GS 4, English , Zoology, Philosophy, Essay Syllabus | FAQs

UPSC Syllabus 2021 & Exam Pattern [PDF Download]

प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी शुरू करने से पहले अभ्यर्थी को उस परीक्षा के पिछले कम-से-कम 5 से १० वर्षों के दौरान पूछे गए प्रश्न पत्रों के Previous Year Question Papers का अच्छी तरह से विश्लेषण करने की आवश्यकता होती है.

UPSC 2021 के Previous Year Question Papers इस परीक्षा के फॉर्मेट को समझने का सबसे अच्छा और प्रामाणिक स्रोत है.

अतः हम यहाँ पर विभिन्न स्रोतों से संग्रह करके एक ही जगह पर उन सभी विषयों के महत्वपूर्ण UPSC परीक्षा के Previous Year Question Papers का PDF फॉर्मेट फ्री में उपलब्ध कर रहें हैं, जिससे की प्रतियोगी छात्रों को इस परीक्षा की तैयारी करने एवं सफल होने में हमारी भूमिका बन सके.

प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी शुरू करने से पहले अभ्यर्थी को उस परीक्षा के पिछले कम-से-कम 5 से १० वर्षों के दौरान पूछे गए प्रश्न पत्रों के Previous Year Question Papers का अच्छी तरह से विश्लेषण करने की आवश्यकता होती है.

UPSC 2021 Previous Year Question Papers इस परीक्षा के फॉर्मेट को समझने का सबसे अच्छा और प्रामाणिक स्रोत है.

अतः हम यहाँ पर विभिन्न स्रोतों से संग्रह करके एक ही जगह पर उन सभी विषयों के महत्वपूर्ण Previous Year Question Papers का PDF फॉर्मेट फ्री में उपलब्ध कर रहें हैं, जिससे की प्रतियोगी छात्रों को इस परीक्षा की तैयारी करने एवं सफल होने में हमारी भूमिका बन सके.

UPSC Syllabus 2021 Examination Pattern [Latest]

UPSC 2021 Prelims (GS & CSAT) Objective Type Examination Pattern

UPSC Prelim परीक्षा एक Multiple Choice Objective Type Test होनेवाली है, जोकि कुल 400 अंकों की होगी,

  • Paper-I से कुल 200 अंकों के 100 प्रश्न पूछे जायेंगे एवं इसके लिए कुल १२० मिनट (२ घंटे) का समय दिया जाएगा.
  • Paper-II से कुल 200 अंकों के 80 प्रश्न पूछे जायेंगे एवं इसके लिए कुल १२० मिनट (२ घंटे) का समय दिया जाएगा.

UPSC Syllabus & Exam Pattern 2021 Overview

Job Description Details
संस्था का नाम Union Public Service Commission [UPSC]
पोस्ट IAS, IPS, IFS, IRS
केटेगरीसिलेबस | परीक्षा पैटर्न
स्थान ऑल इंडिया
परीक्षा का प्रकारPhase-I – Prelims
Phase-II
Mains
Phase-IIIPersonal Interview
परीक्षा का माध्यमहिंदी एवं अंग्रेजी
केटेगरीUPSC Syllabus 2021 & Exam Pattern
चयन प्रक्रिया Phase-I Multiple Choice Objective Test
Phase-II – Descriptive Test
Phase-III – Personality Test
कुल अंक Phase-I – 400 अंक
Phase-II – 1750 + 600 अंक
Interview – 275 अंक
कुल समय Phase-I 120 मिनट्स (2 घंटा) For Each paper
Phase-II 180 मिनट्स (3 घंटे) For Each paper
प्रश्नों के प्रकारवस्तुनिष्ठ (Objective Type MCQs]
ऑफिसियल वेबसाइट @www.upsc.gov.in

UPSC Civil Services Examination [CSE] की परीक्षा तीन चरणों में पूरी की जाती है, जोकि हैं –

  • प्रीलिम्स
  • मेन्स
  • इंटरव्यू [पर्सनालिटी टेस्ट]

Prelims Test के अंतर्गत ऑब्जेक्टिव बेस्ड टेस्ट होते हैं एवं Mains Test के अंतर्गत Descriptive Type Paper होते हैं.

Prelims एवं Mains परीक्षाओं में सफल उम्मीदवारों को व्यक्तित्व परीक्षण (Interview/ Personality Test) के लिए बुलाया जाता है, जोकि 275 अंकों का होता है.

पर्सनालिटी टेस्ट के अंतर्गत उम्मीदवार की बुद्धिमता, अवलोकन एवं निर्णय संतुलन, चोकसता, दृढ़ता, धैर्यता एवं मानवता गुण जैसे – ईमानदारी, अखंडता, सटीक निर्णय क्षमता एवं नेतृत्व क्षमता का समग्र मूल्यांकन किया जायेगा.

UPSC Syllabus CSE-2021 | IAS, IPS, IFS, IRS

PhaseExam CategoryType
Phase-I Preliminary Test Objective-Based Test
Phase-II Mains ExaminationDescriptive Test
Phase-IIIInterviewPersonality Test

UPSC Prelims Syllabus CSE-2021 | IAS, IPS, IFS, IRS

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) परीक्षा का पहला चरण Prelims है और यह परीक्षा पूर्ण रूप से क्वालीफाइंग प्रकृति का है, जिसके तहत अभ्यर्थी को यूपीएससी द्वारा तय किये गए मानक कट-ऑफ ३३% न्यूनतम अंक प्राप्त करने होंगे.

जो भी उम्मीदवार तय किये गए न्यूनतम कट-ऑफ से अधिक अंक प्राप्त करेंगे, उनका यूपीएससी के दुसरे चरण के परीक्षा यानि की Mains के लिए शोर्टलिस्ट कर लिया जायेगा.

प्रीलिम्स परीक्षा के अंतर्गत दो पेपर होते हैं – १. सामान्य अध्ययन (GS) २. सिविल सेवा योग्यता परीक्षा (CSAT)

UPSC Prelims Exam Pattern-2021 | IAS, IPS, IFS, IRS

पेपरविषयअधिकतम अंकप्रश्नों की संख्यासमय अवधि
पेपर IGeneral Studies (GS)2001002 घंटे (०९:30 AM – ११:30 AM)
पेपर IICSAT20080 2 घंटे (०२:30 PM – 04:30 PM)

यूपीएससी प्रीलिम्स परीक्षा 2021 से सम्बंधित महत्वपूर्ण तथ्य:

  • सामान्य अध्ययन के पेपर-I परीक्षा में प्रत्येक सही उत्तर के लिए अभ्यर्थी को २ अंक दिए जायेंगे एवं प्रत्येक गलत उत्तर के बदले ०.६६ अंक काट लिए जायेंगे.
  • प्रत्येक गलत उत्तर के लिए १/३ अंक के नकारात्मक अंकन का प्रावधान है.
  • सीसैट (CSAT) पेपर-II परीक्षा में उम्मीदवारों को प्रत्येक सही उत्तर के लिए २.५ अंक दिए जायेंगे एवं प्रत्येक गलत उत्तर के बदले ०.८३३ अंक काटे जायेंगे.
  • सिविल सेवा (प्रारंभिक परीक्षा) के अंकों को अंतिम परिणाम (Merit List) में सम्मिलित नहीं किया जायेगा.
  • सिविल सेवा (प्रारंभिक परीक्षा) एक अर्हक प्रकृति (Qualifying Nature) का होगा, जिसके अंतर्गत परीक्षार्थी को मुख्य परीक्षा में शामिल होने के लिए न्यूनतम अर्हता अंक (Minimum Qualifying Marks) ३३% प्राप्त करने होंगे.

UPSC Prelims Syllabus 2021

आगे हम यूपीएससी प्रीलिम्स परीक्षा 2021 का विस्तृत पाठ्यक्रम प्रकाशित कर रहे हैं, जिसे अभ्यर्थी UPSC CSE २०२१ की सामान्य अध्ययन (पेपर-I) की तैयारी करने से पहले एक बार अवश्य अध्ययन करें;

UPSC Prelims Syllabus: General Studies (Paper-I) In Hindi

General Studies Paper-I के अंतर्गत निम्न विषयों को सम्मिलित किया गया है:

1. सामान्य विज्ञानं (General Science)

2. राष्ट्रीय एवं अन्तराष्ट्रीय महत्व की घटनाएँ (कर्रेंट अफेयर्स) अपडेटेड. (Updated Current Affairs)

3. भारत का प्राचीन एवं आधुनिक इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन (Indian National Movements)

4. भारत और विश्व का भूगोल – भारत और विश्व का भौतिक, आर्थिक एवं सामाजिक भूगोल की जानकारी (Indian & World Geography – Physical, Social, Economic Geography Of India & The World)

5. आर्थिक और सामजिक सतत विकास, गरीबी और उन्मूलन, समावेश, सामजिक क्षेत्र की पहल एवं जनसांख्यिकी (Economic & Social Development – Sustainable Development, Inclusion, Demographics & Social Sector Initiatives)

6. जैव विविधता और जलवायु परिवर्तन पर आधारित सामान्य मुद्दे, पर्यावरण पारिस्थितिकी (General Issues on Environmental Ecology, Biodiversity & Climate Change)

7. भारतीय राजनीति और शासन-संविधान, पंचायती राज, राजनीतिक व्यवस्था, सार्वजनिक नीति एवं अधिकार के मुद्दे आदि (Indian Polity & Governance – Panchayati Raj, Political System, Constitution, Public Policy & Rights Issues)

UPSC CSE CSAT Syllabus (Paper-II) In Hindi

अभ्यर्थी अब नीचे दिए जा रहे UPSC के प्रारंभिक परीक्षा पेपर-II (CSAT) पाठ्यक्रम का अवलोकन कर सकते हैं, यह पाठ्यक्रम मुख्यतः जिन विषयों पर आधारित होगा, उनका विस्तृत पाठ्यक्रम प्रस्तुत किया जा रहा है.

CSAT (Civil Service Aptitude Test) की तैयारी करने के लिए अभ्यर्थियों को मुख्यतः कर्रेंट अफेयर्स से सम्बंधित मुद्दों पर निबंध और लेख का अभ्यास करना होगा, इसके अतिरिक्त नियमित रूप से राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय समाचार पत्रों का अध्ययन करना होगा.

साथ ही साथ अधिक से अधिक Mock Tests को हल कर अपनी तैयारी को सुनिश्चित कर सकते हैं.

सीसैट (CSAT) पेपर-II का सिलेबस पैटर्न निम्न विषयों पर आधारित होगा:

१ . समझ (Comprehension)

२. संचार कौशल सहित पारस्परिक कौशल (Interpersonal Skills Including Communication Skills)

3. निर्णय लेना और समस्याओं का समाधान करना (Decision Making & Problem Solving)

4. तार्किक तर्क एवं विश्लेषणात्मक क्षमता (Logical Reasoning & Analytical Ability)

5. सामान्य मानसिक क्षमता (General Mental Ability)

6. मूल संख्यात्मकता (संख्याएँ एवं उनके संबंध, परिमाण क्रम)/ डाटा व्याख्या (चार्ट, ग्राफ, टेबल, डाटा उपलब्धता एवं पर्याप्तता) आदि; [Basic Numeracy (Numbers & Their Relations, Orders Of Magnitude etc./ Data Interpretation (Charts, Graphs, Tables, Data Sufficiency etc.] – कक्षा-X स्त्तर के प्रश्न होंगे.

UPSC Mains Syllabus 2021 For IAS, IPS, IFS, IRS

जो भी उम्मीदवार यूपीएससी के प्रारंभिक परीक्षा में न्यूनतम अर्हता अंक (Minimum Qualifying Marks) प्राप्त करने में सफलता प्राप्त करेंगे उनका चयन कर मुख्य परीक्षा के लिए शोर्टलिस्ट कर लिया जायेगा.

मुख्य परीक्षा सभी उम्मीदवारों के लिए अति महत्वपूर्ण चरण है एवं इसके सभी विषयों (पेपर) में उत्तीर्ण होना आवश्यक है.

मुख्य परीक्षा अभ्यर्थियों के लिए एक स्कोरिंग एवं रैंक निर्णायक चरण है. इस परीक्षा में सफल होने के लिए अभ्यर्थियों को विषय की सटीक जानकारी होना आवश्यक है एवं प्रश्नों का उत्तर कम से कम शब्दों में अधिक से अधिक सटीक जानकारियों से दिया जाना चाहिए.

वस्तुतः मुख्य परीक्षा उमीदवार के वास्तविक शैक्षणिक समझ और ज्ञान को समयबद्ध तरीके से प्रस्तुत करने की उनकी क्षमता और योग्यता का परीक्षण करता है.

UPSC Mains Exam Pattern 2021 For IAS | IPS | IFS | IRS

यूपीएससी के मुख्य परीक्षा (Mains) के अंतर्गत कुल ९ पेपर (विषयों) की परीक्षा में शामिल होना पड़ता है एवं प्रत्येक विषयों में बोर्ड द्वारा निर्धारित न्यूनतम योग्यता अंक प्राप्त करना आवश्यक है.

प्रथम के दो पेपर (Paper A & Paper B) भाषा (Language) पर आधारित होते हैं एवं यह पूर्ण रूप से क्वालीफाइंग प्रकृति के होते हैं, यानी की इन विषयों में सिर्फ उत्तीर्ण होना आवश्यक है.

इन दो पेपर के अलावा बाकी के सभी ७ पेपर पूर्ण रूप से स्कोरिंग (Scoring) होनेवाले हैं, जिनमें अधिक से अधिक अंक आपकी सफलता सुनिश्चित करेंगे.

UPSC CSE Mains Exam Syllabus 2021 In Hindi

पेपरविषय (Subjects)समय अवधिअधिकतम अंक (Marks)प्रकृति (Nature)
पेपर Aकोई भी भारतीय भाषा३ घंटे३०० (२५% For Qualifying)Qualifying
पेपर BEnglish Language३ घंटे ३०० (२५% For Qualifying) Qualifying
पेपर Iनिबंध (Essay)३ घंटे250स्कोरिंग
पेपर IIGeneral Studies I३ घंटे250स्कोरिंग
पेपर IIIGeneral Studies II३ घंटे250स्कोरिंग
पेपर IVGeneral Studies III३ घंटे250स्कोरिंग
पेपर VGeneral Studies IV३ घंटे250स्कोरिंग
पेपर VIOptional I३ घंटे250स्कोरिंग
पेपर VIIOptional II३ घंटे250स्कोरिंग

यूपीएससी मेन्स (Mains) परीक्षा 2021 से सम्बंधित महत्वपूर्ण तथ्य:

यूपीएससी मुख्य परीक्षा के अंतर्गत दो पेपर क्वालीफाइंग प्रकृति के होते हैं : पेपर A एवं पेपर B, प्रत्येक पेपर ३०० अंकों के होते हैं.

पेपर A के अंतर्गत भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल किसी भी एक भारतीय भाषा की परीक्षा देनी होगी.

पेपर B के तहत Language Paper के अंतर्गत अंग्रेजी भाषा (English Language) का होगा.

अभ्यर्थियों को Paper A एवं Paper B दोनों में न्यूनतम क्वालीफाइंग अंकों से उत्तीर्ण होना आवश्यक है, जोकि २५% निर्धारित है, यानि कि दोनों पेपर में ७५ अंक प्राप्त करने होंगे.

इसके अतिरिक्त अन्य सभी ७ पेपर्स स्कोरिंग प्रकृति के होंगे, जिनके अंक अभ्यर्थी के अंतिम मेरिट लिस्ट में सम्मिलित किये जायेंगे.

अभ्यर्थी इन सभी ७ स्कोरिंग पेपर्स के उत्तर अंग्रेजी भाषा में या फिर आठवीं अनुसूची में शामिल भाषाओं में से चयनित किसी भी एक भाषा में दे सकते हैं.

पेपर VI एवं पेपर VII वैकल्पिक विषय पर आधारित परीक्षा होंगे, जिसके लिए अभ्यर्थियों को दिए गए तालिका में से किसी एक विषय का चयन करना होगा.

UPSC CSE Mains Optional Subjects List In Hindi

कृषि (Agriculture)GeologyPolitical Science & International RelationsMechanical EngineeringMathematics
Civil EngineeringSociologyAnimal Husbandry & Veterinary ScienceManagementLaw
ZoologyCommerce & AccountancyBotanyHistoryGeography
Public AdministrationEconomicsPhilosophyPhysicsChemistry
StatisticsAnthropologyElectrical EngineeringPsychologyMedical Science
साहित्य [Literature]
साहित्य के रूप में अभ्यर्थी निम्न भाषाओं में से किसी एक का चयन कर सकते हैं : हिंदी, बंगाली, बोडो, असमिया, डोगरी, कन्नड़, मैथिली, मणिपुरी, कश्मीरी, कोंकणी, मलयालम, उड़िया, नेपाली, मराठी, संस्कृत, सिन्धी, पंजाबी, संथाली, तेलुगु, तमिल, अंग्रेजी एवं उर्दू.

UPSC CSE Mains Subject Wise Syllabus In Hindi

Structure Of The Language Papers [लैंग्वेज पेपर्स की रुपरेखा]

नीचे की तालिका के माध्यम से भाषा (Language) पेपर्स की संरचना यानि पेपर A एवं पेपर B की सूची को प्रस्तुत किया जा रहा है.

उम्मीदवार इनमें से किसी भी एक भाषा का चयन अपनी लैंग्वेज पेपर के रूप में करने के लिए स्वतंत्र है, जोकि भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में सम्मिलित है.

वहीं दूसरे लैंग्वेज पेपर के रूप में अंग्रेजी (English) को रखना अनिवार्य है.

पेपर A के लिए अपनी चयनित भाषा के लिए हमें जिस सम्बंधित लिपि (Script) का उपयोग करना होगा, उसे नीचे की तालिका में उल्लेखित किया जा रहा है:

भाषा (Language)लिपि (Script) भाषा (Language) लिपि (Script)
हिंदीदेवनागरीमैथिलीदेवनागरी
बांग्लाबंगालीतेलुगुतेलुगु
पंजाबीगुरुमुखीडोगरीदेवनागरी
संस्कृतदेवनागरीकोंकणीदेवनागरी
असमियाअसमीतमिलतमिल
कन्नड़कन्नड़मणिपुरीबंगाली
मराठीदेवनागरीनेपालीदेवनागरी
गुजरातीगुजरातीकश्मीरीपर्शियन
बोडोदेवनागरीसंथालीदेवनागरी/ओलचिकी
मलयालममलयालमसिन्धीदेवनागरी/अरबिक
ओडियाओडियाउर्दूपर्शियन

नोट: संथाली भाषा का प्रश्न पत्र देवनागरी लिपि में उपलब्ध होगा, परन्तु अभ्यर्थी देवनागरी एवं ओलचिकी लिपि में से किसी भी एक में अपना उत्तर देने के लिए स्वतंत्र है.

UPSC Mains Language Papers Syllabus In Hindi

यूपीएससी मेन्स (Mains) परीक्षा 2021 के सिलेबस के अनुसार Language Papers (पेपर A एवं पेपर B) के लिए जिस-जिस टॉपिक पर आधारित प्रश्न पूछे जायेंगे, उसका विस्तृत पाठ्यक्रम नीचे दिया जा रहा है, अभ्यर्थी इसका विश्लेषण अवश्य करें;

१. निबंध (Essay) – 100 अंक

२. Reading comprehension – 60 अंक

३. Precis Writing – 60 अंक

४. व्याकरण एवं भाषा ज्ञान (Grammar & Basic Language Use) – 40 अंक

५. अनुवाद (Translation):

a) English To Compulsory (जैसे कि – हिंदी में) – 20 अंक

b) Compulsory Language To English – 20 अंक

अब बात करते हैं यूपीएससी मेन्स (Mains) सिलेबस के सबसे अधिक महत्वपूर्ण पेपर्स कि जिनका इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करने में सबसे अधिक महत्व होता है, जोकि हैं – सामान्य अध्ययन (General Studies) के पेपर्स.

इस मुख्य परीक्षा के अंतर्गत सामान्य अध्ययन (General Studies) के कुल ४ पेपर होते हैं एवं प्रत्येक पेपर 250 अंकों के होते हैं.

कुल ४ पेपर के लिए १००० अंक होते हैं.

अंतिम मेधा सूची (Merit List) अपना स्थान सुनिश्चित करने के लिए इन ४ विषयों में अधिक से अधिक अंक प्राप्त करने की आवश्यकता होती है, अतः अभ्यर्थियों को इन विषयों की अच्छी तैयारी करनी चाहिए.

नीचे सामान्य अध्ययन (General Studies) के चारों पेपर्स के सिलेबस की पूर्ण व्याख्या की जा रही है,

UPSC Mains Syllabus For General Studies Paper-I In Hindi

यूपीएससी मेन्स के सामान्य अध्ययन (General Studies) पेपर I के अंतर्गत देश और विश्व के सामजिक इतिहास एवं उनके विरासत, संस्कृति एवं भूगोल से प्रश्न पूछे जायेंगे.

अभ्यर्थी आयोग द्वारा उपलब्ध कराये गए सामान्य अध्ययन पेपर I के विस्तृत पाठ्यक्रम का पूर्ण अवलोकन अवश्य करें;

भारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व एवं सामाजिक इतिहास और भूगोल [Indian Heritage & Culture, History & Geography Of The World & Society]

प्राचीन भारतीय संस्कृति से लेकर आधुनिक काल तक के साहित्य, कला रूपों एवं वास्तुकला की प्रमुख विशेषताएँ (Indian Culture covers the salient features of Literature, Art forms & Architecture from ancient to modern times)

आधुनिक भारतीय इतिहास के अंतर्गत १८वीं शताब्दी के मध्य से लेकर वर्तमान समय तक की महत्वपूर्ण घटनाएं, व्यक्ति विशेष (व्यक्तित्व) एवं मुद्दे (Modern Indian History include the significant events, personalities & issues during the middle of the 18th century untill the present)

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में देश के विभिन्न भागों से महत्वपूर्ण योगदानकर्ता एवं उनके महत्वपूर्ण योगदान (Various stages & important contributors & their contributions from different parts of the country in ‘The Indian Freedom Struggle’)

स्वतंत्रता के पश्चात देश के अन्दर पुनर्गठन, एकत्रीकरण और समेकन (Post-independence consolidation & reorganization within the country)

विश्व के इतिहास में १८वीं शताब्दी की महत्वपूर्ण घटनाओं, उनके प्रभाव और रूप, सामाजिक प्रभाव जैसे कि- विश्व युद्ध, औद्योगिक क्रांति, राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय सीमाओं का पुनर्निर्माण, उपनिवेशवाद एवं राजनितिक दर्शन जैसे- साम्यवाद, पूंजीवाद, समाजवाद इत्यादि शामिल हैं.

भारत की विविधता और भारतीय समाज के मुख्य पहलू (Salient aspects of Diversity of India & Indian Society)

सामाजिक सशक्तिकरण, साम्प्रदायिकता, क्षेत्रवाद एवं धर्मनिरपेक्षता (Social Empowerment, Communalism, Regionalism & Secularism)

महिलायें और महिलाओं के संगठन की भूमिका, गरीबी और विकासात्मक मुद्दे, जनसंख्या और उनसे सम्बंधित मुद्दे, शहरीकरण, उनकी समस्याएं और उपाय (Role of women & women’s organization, poverty & development issues, population & associated issues, urbanization & their problems & remedies)

भारतीय समाज पर वैश्वीकरण के प्रभाव (Effects of globalization on Indian Society)

दक्षिण एशिया और भारतीय उपमहाद्वीप सहित दुनिया भर के प्रमुख प्राकृतिक संसाधनों का वितरण / भारत सहित विश्व के विभिन्न हिस्सों में प्राथमिक, माध्यमिक और तृतीयक क्षेत्र के उद्द्योगों के स्थान के लिए जिम्मेवार कारक.

महत्वपूर्ण भोगोलिक घटनाएं जैसे की भूकंप, सुनामी, चक्रवात एवं ज्वालामुखी गतिविधि और घटनाएं आदि, भोगोलिक विशेषताएं और उनका स्थान – महत्वपूर्ण भोगोलिक विशेषताओं (जल-निकायों और Ice-Caps), वनस्पतियों और जीवों में परिवर्तन तथा ऐसे परिवर्तनों के प्रभाव.

विश्व के भौतिक भूगोल की प्रमुख विशेषताएँ (Salient features of world’s physical geography)

UPSC Mains Syllabus For General Studies Paper-II In Hindi

यूपीएससी मेन्स के सामान्य अध्ययन (General Studies) पेपर II के अंतर्गत शासन (Governance), राजनीति (Polity), संविधान (Constitution), सामाजिक न्याय (Social Justice) और अंतर्संबंधों (Interrelations) से प्रश्न पूछे जायेंगे.

अभ्यर्थी नीचे दिए गए पाठ्यक्रम का अवलोकन कर सकते हैं –

शासन, संविधान, राजनीति, सामाजिक न्याय और अंतराष्ट्रीय सम्बन्ध [Governance, Constitution, Polity, Social Justice & International Relations]

भारतीय संविधान – ऐतिहासिक आधार, विकास, विशेषताएं, संशोधन, महत्वपूर्ण प्रावधान और बुनियादी संरचना (Indain Constitution – Historical underpinnings, evolution, features, amendments, significant provisions & Basic Structures)

संघ और राज्यों के कार्य एवं उत्तरदायित्व, संघीय ढाँचे से सम्बंधित मुद्दे और चुनौतियां, स्थानीय स्त्तर की शक्तियां और वित्त का हस्तांतरण एवं उनकी चुनौतियां

अन्य देशों के साथ भारतीय संवैधानिक योजनाओं की तुलना (Comparision of the Indian Constitutional scheme with that of other countries)

विभिन्न अंगों/ संस्थाओं के बीच शक्तियों का पृथक्करण, विवाद, उनके निवारण तंत्र और संस्थान (Separation of powers between various organs dispute redressal mechanisms & Institutions)

विभिन्न संवैधानिक निकायों के विभिन्न संवैधानिक पदों, उनकी शक्तियों, कार्यों और जिम्मेदारियों पर नियुक्ति (Appointment to various Constitutional Posts, their powers, functions & responsibilities of various Constitutional Bodies)

संसद और राज्य विधानमंडल की संरचना, कामकाज, व्यवसाय का संचालन, उनकी शक्तियां और विशेषाधिकार और इनसे उत्पन्न होने वाले विभिन्न मुद्दे (Parliament & State Legislatures – Their structure, functioning, the conduct of business, their powes & privileges & issues arising out of these)

जन प्रतिनिधित्व अधिनियम की मुख्य विशेषताएं (Salient features of the Representation of people’s Act)

कार्यकारी और न्यायपालिका मंत्रालयों और सरकार के विभागों की संरचना, संगठन और कामकाज, दबाव समूह और औपचारिक/अनौपचारिक संघ एवं सक्रीय राजनीति में उनकी भूमिका (Structure, organization & functioning of the Judiciary Ministries & Departments of the Government, Pressure groups & formal or informal associations & their role in the Polity)

विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकारी नीतियाँ और हस्तक्षेप एवं उनके डिजाईन और कार्यान्वयन से उत्पन्न होनेवाले विभिन्न मुद्दे (Government policies & interventions for development in various sectors & issues arising out of their design & implementation)

वैधानिक, नियामक और विभिन्न अर्ध-न्यायिक निकाय (Statutory, regulatory & various quasi-judicial bodies)

केंद्र और राज्यों द्वारा आबादी के कमजोर एवं पिछड़े वर्गों के लिए कल्याणकारी योजनायें एवं इन योजनाओं का प्रदर्शन, इन गरीब – पिछड़े वर्गों की सुरक्षा और उनकी आर्थिक एवं सामजिक उत्थान के लिए गठित तंत्र, कानून, संस्थान और निकाय

विकास प्रक्रियाएं और विकास उद्योग, गैर सरकारी संगठनों, स्वयं सहायता समूहों, विभिन्न संघों एवं समूह, दान, दानकर्ता, संस्थागत और अन्य हितधारकों की भूमिकाएं (Development proccesses & the development industries, the role of NGOs, SHGs, various groups & associations donors, charities, institutional & other stakeholders)

स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधन से सम्बंधित सामाजिक क्षेत्र/ सेवाओं का विकास एवं प्रबंधन से सम्बंधित मुद्दे (Issues relating to development & management of social sector/ services relating to Health, Education & Human Resources)

आर्थिक रूप से गरीबी एवं भूख से सम्बंधित मुद्दे (Issues relating to poverty & hunger)

शासन, पारदर्शिता और जवाबदेही के महत्वपूर्ण पहलू , ई-गवर्नेंस अनुप्रयोग, मॉडल, सफलताएँ, सीमायें और क्षमता, नागरिक चार्टर, पारदर्शिता और जवाबदेही, संस्थागत और अन्य उपाय (Important aspects of governance, transparency & accountability, e-governance applications, models, successes, limitations & potential, citizens charters, transparency & accountability, institutional & other measures)

लोकतंत्र में सिविल सेवाओं की भूमिका (Role of civil services in a democracy)

भारत और उनके पडोसी देशों के साथ सम्बन्ध (India & it’s neighborhood-relations)

द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक समूह और भारत से जुड़े और भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते (Bilateral, regional & global groupings & agreements involving India and affecting India’s interests)

महत्वपूर्ण अंतराष्ट्रीय संस्थान, एजेंसियां एवं उनके मंच और संरचना, जनादेश (Important International Institutions, agencies fora & their structure, mandate)

विकसित और विकासशील देशों की नीतियों और राजनीति का भारत के हितों और प्रवासी भारतीयों पर उनके प्रभाव (Effect of policies & politics of developed & developing countries on India’s interests & Indian diaspora)

UPSC Mains Syllabus For General Studies Paper-III In Hindi

यूपीएससी मेन्स के सामान्य अध्ययन (General Studies) पेपर III मुख्य रूप से विज्ञानं एवं प्रोद्योगिकी (Science & Technology), अर्थशास्त्र (Economics), रक्षा (Defence), आपदा प्रबंधन (Disaster Management) एवं प्रकृति (Nature) से सम्बंधित है एवं इस पेपर के अंतर्गत जीवन के किसी भी पहलू से प्रश्न पूछे जा सकते हैं.

हमारे जीवन की दैनिक गतिविधियों और उनसे सम्बंधित हो रहे नए विकास और आविष्कार और उनके प्रभाव;

प्रोद्योगिकी, आर्थिक विकास, पर्यावरण, जैव-विविधता, सुरक्षा एवं आपदा प्रबंधन [Technology, Economic Development, Environment, Bio-Diversity, Security & Disaster Management]

सरकारी बजट (Government Budget)

भारतीय अर्थव्यवस्था और योजना, विकास, संसाधन जुटाने, विकास और रोजगार से सम्बंधित मुद्दे (Indian Economy & Issues relating to planning, growth, mobilization of resources, development & employment)

विकास, जैव विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन (Development, Biodiversity, Environment, Security & Disaster Management)

समावेशी विकास और इससे उत्पन्न होने वाले मुद्दे (Inclusive growth & Issues arising from it)

पशुपालन का अर्थशाश्त्र (Economics of animal-rearing)

भारत में खाद्य प्रसंस्करण और सम्बंधित उद्योग – कार्यक्षेत्र एवं महत्व, स्थान, अप स्ट्रीम और डाउन स्ट्रीम की आवश्यकताएं, आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन (Food processing & related industries in India, Scope & Significance, Location, Upstream & Downstream requirements, Supply & Chain Management)

देश के विभिन्न हिस्सों के प्रमुख फसलों के पैटर्न, विभिन्न प्रकार की सिंचाई और सिंचाई प्रणाली कृषि उपज का भण्डारण, परिवहन और विपणन के मुद्दे एवं उनसे सम्बंधित आनेवाली बाधाएं / किसानों की सहायता के लिए ई- प्रोद्योगिकी तकनीक.

प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष कृषि सब्सिडी और न्यूनतम समर्थन मूल्य से सम्बंधित मुद्दे, सार्वजनिक वितरण प्रणाली के उद्देश्य, कार्य प्रणाली, सीमाएं एवं सुधार, बफर स्टॉक एवं खाद्य सुरक्षा के महत्वपूर्ण मुद्दे – प्रोद्योगिकी मिशन.

अर्थव्यवस्था पर उदारीकरण के प्रभाव, औद्योगिक नीति में परिवर्तन एवं औद्योगिक विकास पर उनके प्रभाव (Effects of liberalization on the Economy, changes in industrial policy & their effects on industrial growth)

निवेश मॉडल (Investment Models)

बुनियादी ढांचा: ऊर्जा, सड़कें, रेलवे, बंदरगाह, हवाई अड्डे इत्यादि (Infrastructure: Energy, Roads, Railways, Ports, Airports etc.)

प्रोद्योगिकी का स्वदेशीकरण और नयी तकनीकों का विकास (Indigenisation of technology & developments of latest technology)

विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी – दैनिक जीवन में विकास और उनके अनुप्रयोग एवं प्रभाव विज्ञानं और प्रोद्योगिकी में भारतीयों की उपलब्धियां एवं योगदान (Science & Technology – Developments & their applications & effects in everyday life / Achievements of Indians in Science & Technology)

पर्यावरण संरक्षण, पर्यावरणीय प्रभाव और आकलन, प्रदूषण और गिरावट (Conservation, Environmental pollution & degradation, environmental impact assessment)

आपदा और आपदा प्रबंधन (Disaster & Disaster Management)

आईटी, कंप्यूटर, अंतरिक्ष, रोबोटिक्स, नैनो-टेक्नोलॉजी, जैव प्रोद्योगिकी एवं बौद्धिक संपदा एवं अधिकारों से सम्बंधित मुद्दों के क्षेत्र में जागरूकता (Awareness in the fields of IT, Space, Computers, Robotics, Nano-Technology, Bio-Technology & Issues relating to intellectual property rights)

विकास और उग्रवाद के प्रसार के बीच सम्बन्ध (Linkages between development and spread of extremism)

आतंरिक सुरक्षा के लिए चुनौतियां पैदा करने में बाहरी और गैर राज्य अभिनेताओं की भूमिकाएं (Role of external & non-state actors in creating challenges to internal security)

विभिन्न सुरक्षा बल और एजेंसियां एवं उनका जनादेश (Various Security forces & agencies & their mandates)

सीमावर्ती क्षेत्रों में सुरक्षा चुनौतियां और उनका प्रबंधन / संगठित अपराध का आतंकवाद से सम्बन्ध (Security Challenges & their management in border areas/ linkages of organized crime with terrorism)

संचार नेटवर्क के माध्यम से आतंरिक सुरक्षा के लिए अहम् चुनौतियां, आतंरिक सुरक्षा चुनौतियों में मीडिया और सोशल नेटवर्किंग साइटों की भूमिका, साइबर सुरक्षा की मूल बातें, मनी-लॉन्ड्रिंग और इसकी रोकथाम

UPSC Mains Syllabus For General Studies Paper-IV In Hindi

यूपीएससी मेन्स के सामान्य अध्ययन (General Studies) पेपर IV के अंतर्गत नैतिकता, सत्यनिष्ठा एवं योग्यता से सम्बंधित प्रश्न पूछे जायेंगे.

GS-IV के इस पेपर में उम्मीदवार के दृष्टिकोण, अखंडता और सार्वजनिक जीवन में ईमानदारी से सम्बंधित मुद्दों के प्रति दृष्टिकोण और समाज के साथ व्यवहार करते समय उनके द्वारा सामना किये जानेवाले विभिन्न मुद्दों और संघर्षों के लिए उनके समस्या समाधान के दृष्टिकोण की जाँच करने के लिए प्रश्न शामिल होंगे.

ये प्रश्न इन विभिन्न पहलुओं को निर्धारित करने एवं क्षेत्र को कवर करने के लिए केस स्टडी दृष्टिकोण का उपयोग किया जा सकता है:

मानवीय मूल्य (Human Values) – महान नेताओं, समाज सुधारकों एवं प्रशासकों के जीवन और शिक्षाओं से सबक / मूल्यों को विकसित करने में परिवार, समाज और शैक्षणिक संस्थानों की भूमिका

नैतिकता और Human Interface – मानवीय कार्यों में नैतिकता का सार, निर्धारक और परिणाम / नैतिकता के आयाम / निजी और सार्वजनिक संबंधों में नैतिकता

मनोवृत्ति (Attitude) – कार्य, सामग्री, संरचना; विचार और व्यवहार के साथ इसका प्रभाव और सम्बन्ध / नैतिक और राजनितिक दृष्टिकोण /सामाजिक प्रभाव और अनुनय (Function, Content, Structure; It’s fluence & relation with thought & behaviour/ Moral & Political attitudes/ Social influence & persuasion)

भावनात्मक खुफिया-अवधारणायें, प्रशासन और शासन में उनकी उपयोगिता और अनुप्रयोग (Emotional Intelligence Concepts & their utilities & application in administration & governance)

भारत और विश्व के नैतिक विचारकों और दार्शनिकों का योगदान (Contributions of moral thinkers & philosophers from India & World)

सिविल सेवा के लिए योग्यता एवं मुलभुत मूल्यों, निष्पक्षता, अखंडता एवं गैर-पक्षपात, पिछड़े एवं कमज़ोर वर्गों के प्रति सहानुभूति, सार्वजनिक सेवा के प्रति समर्पण / सहिष्णुता एवं करुणा (Aptitude & Foundational values for Civil Service, Integrity, Impartiality & non-partisanship, objectivity, empathy, tolerance, dedication to public service & Compassion towards the weaker sections)

शासन में सत्यनिष्ठा (Probity In Governance) – लोक सेवा की अवधारणा / शासन और ईमानदारी का दार्शनिक आधार/ जानकारी/ सरकार में साझेदारी और पारदर्शिता, सूचना का अधिकार, आचार संहिता, नागरिक चार्टर, कार्य संस्कृति, सेवा वितरण की गुणवत्ता, सार्वजनिक धन का उपयोग, भ्रष्टाचार की चुनौतियां.

ऊपर दिए गए मुद्दों पर Case Studies

उम्मीदवार नीचे दिए गए लिंक से यूपीएससी मेन्स के सभी वैकल्पिक पेपर्स के ऑफिसियल आधिकारिक PDF को डाउनलोड कर सकते हैं:

UPSC CSE, IAS, IPS, IFS, IRS Interview Test For Final Selection

यूपीएससी मुख्य परीक्षा में सफलता प्राप्त करने वाले छात्रों को अंतिम चयन के लिए ‘साक्षात्कार’ परीक्षण के लिए बुलाया जाएगा.

यूपीएससी के द्वारा गठित नियुक्ति बोर्ड के माध्यम से मुख्य परीक्षा में चयनित उम्मीदवारों को ‘साक्षात्कार (Personal Interview)’ के द्वारा अंतिम चयन किया जाता है.

१. उम्मीदवारों का साक्षात्कार सिलेक्शन बोर्ड के अधिकारियों के द्वारा लिया जाएगा, जिसके समक्ष अभ्यर्थी का विस्तृत आवेदन पत्र (DAF) होगा, जिसमें अभ्यर्थी के करियर की सभी शैक्षणिक उपलब्धियों का रिकॉर्ड होगा.

२. साक्षात्कार का मुख्य उद्देश्य एक सशक्त, निष्पक्ष एवं उपयुक्त निर्णय लेने में सक्षम एक युक्त उम्मीदवार का चयन करना एवं व्यक्तिगत उपयुक्तता की जाँच करना है, जिसका चयन सक्षम और निष्पक्ष पर्यवेक्षकों के एक बोर्ड द्वारा किया जायेगा.

३. इस व्यक्तिगत परीक्षण में अपने एकेडेमिक उपलब्धियों के अतिरिक्त उम्मीदवारों को अपने राज्य एवं देश के अन्दर के साथ-साथ अन्तराष्ट्रीय स्त्तर पर हो रहे विषयों के बारे में पर्याप्त ज्ञान होना आवश्यक है.

४. इस साक्षात्कार के माध्यम से अभ्यर्थी के साथ उद्देश्यपूर्ण बातचीत के द्वारा मानसिक गुणों और विश्लेष्णात्मक क्षमता का पता लगाना है.

५. यह साक्षात्कार परीक्षा कुल 275 अंकों की होगी एवं लिखित परीक्षा के लिए कुल १७५० अंक होंगे, जोकि कुल २०२५ अंकों का होगा, इसी के आधार पर मेरिट लिस्ट के लिए अंतिम योग्यता सूची तैयार की जायेगी.

UPSC CSE Salary, Emoluments & Perks For IAS, IPS, IRS, IFS In Hindi

UPSC CSE भारतीय युवाओं के लिए सबसे अधिक आकर्षक एवं रुतबा वाला एक सरकारी नौकरी है, जिसमें उन्हें एक अच्छा वेतन, भत्ता, सरकारी सुविधाएं एवं अन्य उपलब्धियां प्राप्त होती है.

सरकारी नौकरी के रूप में देश का कोई अन्य नौकरी इस तरह की सुविधा और वेतन नहीं देती है, इस कार्य को करने में आपको गौरव की प्राप्ति होती है.

अभ्यर्थी नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके UPSC CSE के लिए दिए जानेवाले वेतन भत्तों और परिलब्धियों की जाँच कर सकते हैं.

Download SHS Bihar CHO Family Planning Previous Question Papers In English

नोट: परीक्षा से सम्बंधित अन्य रेगुलर Updates प्राप्त करने के लिए आप हमारे ब्लॉग से जुड़े रहें…

Also Download: SBI PO Previous Question Papers 2021 In Hindi & English

telegram logo

UPSC CSE Syllabus For IAS, IPS, IFS & IRS FAQs In Hindi

सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा योजना का पैटर्न क्या है?
What is the scheme of Civil Services (Prelims) Examination

सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा योजना के अंतर्गत 200-200 अंकों के दो अनिवार्य पेपर होंगे.

क्या यूपीएससी प्रीलिम्स और मेन्स का सिलेबस अलग-अलग होगा?
Is the UPSC Prelims & Mains Syllabus is different?

हाँ, यूपीएससी के प्रत्येक चरणों के पाठ्यक्रम अलग-अलग हैं, विस्तार से इस पाठ्यक्रम को अभ्यर्थी इस पेज के माध्यम से अध्ययन कर सकते हैं.

क्या सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा (CSP) में एक प्रयास को सिविल सेवा परीक्षा (CSE) के एक के रूप में गिना जायेगा?

यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा में किसी भी पेपर में शामिल होने पर उसे यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा (CSE) के एक प्रयास (Attempt) के रूप में गिना जायेगा.

क्या एक उम्मीदवार ऐसे वैकल्पिक विषय को चुन सकता है, जिसका अध्ययन उसने स्नातक या स्नातकोत्तर स्त्तर पर नहीं किया है?

हाँ, बिलकुल उम्मीदवार दी गई सूची में से किसी भी एक भाषा का चयन करने के लिए स्वतंत्र है, विषय सूची की जाँच करने के लिए अभ्यर्थी इस लेख का अध्ययन कर सकते हैं.

यूपीएससी परीक्षा के प्रश्न पत्रों की भाषा या माध्यम कौन-कौन सी होगी?
What is the language or medium of question papers?

साहित्य के लैंग्वेज पत्रों के अलावा सभी प्रश्न पत्र हिंदी एवं अंग्रेजी दोनों भाषाओं में उपलब्ध होंगे.

Latest Upcoming Government Exams Previous Year Question Papers

Contents

Leave a Comment

Translate »
%d bloggers like this: