ब्लॉग या वेबसाइट के लिए एक Useful ‘Domain Name’ का चुनाव कैसे करें?

‘Domain Name’ का चयन कैसे करें?

एक Useful Domain Name का मतलब होता है एक ऐसा Domain Name जो हमारे Content और Niche से सम्बंधित हो।

हमें अपने ब्लॉग के लिए हमेशा एक ऐसा Domain Name रखना चाहिए जो कम से कम शब्दों (अधिकतम 15 Letters/Alphabet का) का हो, और हमारा ब्लॉग जिस टॉपिक पर आधारित है उसी से मिलता जुलता नाम होना चाहिए।

इसके साथ – साथ जिसे Type करना और याद रखना भी आसान हो।

उदाहरण के लिए ‘Careerguideblog’ में शब्दों की संख्या 15 है जोकि Perfect है एवम इसके नाम से ही पता चल पा रहा है की इस ब्लॉग का Content क्या हो सकता है।

जोकि है करियर से Related पोस्ट एवं Articles और ब्लॉग से सम्बन्धित सभी तरह की पूर्ण जानकारियां, जो इसके डोमेन Name को सार्थक बनाते हैं और यह सर्च इंजन के लिए भी बहुत उपयोगी भी है।

अब अगर हम बात करें कि एक Useful Domain Name का चुनाव कैसे किया जाय तो इसके लिए जो पहला तरीका है उसके अनुसार किसी Niche के ऊपर जो नाम आपने सोचा है उसे Simply Domain Name प्रोवाइडर्स के वेबसाइट में सर्च करना।

अगर वह नाम उपलब्ध होगा तो आप उसे बड़ी आसानी से ‘Godaddy या Namecheap’ से खरीद सकते हैं।

लेकिन यदि वह उपलब्ध नहीं है और आपको अपने Niche या Topic के ऊपर कोई Domain Name का Idea नहीं मिल पा रहा है तो इसके लिए मैं आपको अपना एक बेहतरीन तरीका बताने जा रहा हूँ जिसे अपनाकर मैंने भी खुद का अपना कई डोमेन Name Purchase किया है।

Careerguideblog.com का आईडिया भी मुझे यहीं से मिला था।

एक Meaningful और अपने Niche से सम्बंधित Domain Name का सुझाव कहाँ से और कैसे प्राप्त करें?Domain Name

एक Meaningful और अपने Niche से सम्बंधित Domain Name का सुझाव प्राप्त करने के लिए हमें जिस वेबसाइट पर जाना होगा उसका नाम है – www.leandomainsearch.com

इसके सर्च Bar में आप अपने Niche या Related टॉपिक के ऊपर जो भी Terms को सर्च करेंगे उससे सम्बंधित Domain Name Suggestions जोकि Available होंगे वो आपके सामने आ जायेंगे।

अब उस उपलब्ध डोमेन Name को आप Namecheap या Godaddy पर जाकर बड़ी आसानी से बुक कर पाएंगे।

जिससे आपके समय की भी बचत हो जाएगी और एक बेहतरीन डोमेन Name आप खरीद पाएंगे।

Domain Name क्या है?

इन्टरनेट के द्वारा अपने कंप्यूटर या मोबाइल के ब्राउज़र पर जब हम किसी वेबसाइट पर जाना चाहते हैं तो हम या तो उस वेबसाइट का नाम Google पर डालकर Search करते हैं या फिर उस वेबसाइट का Url अपने ब्राउज़र पर Enter करते हैं।

जब वेबसाइट का नाम गूगल पर सर्च किया जाता है तब उस सम्बंधित वेबसाइट का Web Address यानि URL का ही Link हमें Search Engine पर प्राप्त होता है जिस पर Click करके हम उस वास्तविक वेबसाइट पर पहुँच जाते है जिसपर हमें जाना होता है।

इस प्रकार, किसी वेबसाइट या ब्लॉग पर जाने के लिए जिस Web Address यानि URL का इस्तेमाल किया जाता है उसे ही Domain Name कहा जाता है।

जिस प्रकार हमारे इस ब्लॉग का Domain Name है; www.careerguideblog.com

जोकि ब्राउज़र पर इस Format में दिखाई पड़ता है : https://www.careerguideblog.com

यहाँ पर इसे विस्तृत रूप में समझते हैं ;

http : इसका मतलब होता है, Hyper Text Transfer Protocol;

https : S लगा होने का मतलब इस वेबसाइट का Secured होना है;

www : इसका मतलब है, World Wide Web जिसके अंतर्गत दुनिया की सभी Domain Name को सम्मिलित किया जाता है।

careerguideblog : यही हमारे वेबसाइट का ‘Domain Name’ होता है;

.COM : इसे Domain Extension कहा जाता है।

किसी Domain Name का यही सबसे अधिक महत्वपूर्ण भाग होता है, जिसमें सबसे अधिक प्रचलित Extensions .com/.net/.org/ होता है।

इसके अतिरिक्त प्रत्येक देश के लिए अपना एक अलग Domain Extension होता है जिससे किसी वेबसाइट का किसी विशेष Country से होने का पता चलता है।

इस तरह के Domain Extension के उदहारण हैं; .in/.pk/.us/.uk/.au/ इत्यादि।

इन्टरनेट ब्राउज़र पर इस URL Link को Enter करते ही आप हमारे इस ब्लॉग पर पहुँच जायेंगे।

इस प्रकार इन्टरनेट उपलब्ध प्रत्येक वेबसाइट और Blogs का अपना एक अलग Domain Name होता है, जोकि उसे अन्य Websites से अलग करता है।

प्रत्येक वेबसाइट और ब्लॉग का जो Domain Name होता है उसका अपना एक Unique IP Address होता है जिसके द्वारा प्रत्येक वेबसाइट की पहचान हो पाती है।

Domain Name इसी Internet Protocol के IPv4 Address के अंतर्गत शामिल होता है।

IP Address कुछ इस प्रकार का होता है – 216.58.197.78, जिसे याद रख पाना किसी के लिए संभव नहीं है।

इसीलिए सभी Websites के IP Address को एक Domain Dame के साथ Connect कर दिया जाता है, ताकि इसे आसानी से स्मरण रखा जा सके।

Domain Name कैसा होना चाहिए?

अक्सर लोग इस प्रश्न के विषय पर Clear नहीं बोल पाते हैं की आखिर एक Domain Name कैसा होना चाहिए?

शायद ही कोई ऐसा ब्लॉगर होगा जिसने शुरूआती Domain Name Purchase में गलती ना की हो।

चूँकि एक ब्लॉग या वेबसाइट आगे चलकर एक Brand के रूप में परिवर्तित होता है अगर उस पर Professional तरीके से कार्य किया जाए तो। और इसके कई उदहारण भरे पड़े हैं।

इसीलिए हर किसी को अपने ब्लॉग के Domain Name के चयन पर बहुत अधिक ध्यान देने की जरुरत होती है।

जिससे की भविष्य में हमें अपने Domain Name को परिवर्तित करने की आवश्यकता ना पड़े।

Domain Name के चुनाव के लिए हम दो तरह के तरीके अपना सकते हैं ;

  • Topic (Niche) के अनुसार चयन 

जब हम अपना एक नया ब्लॉग या वेबसाइट बनाने की सोच रहे हैं तो निश्चित ही हम किसी विशेष Topic या Niche के ऊपर अपना ब्लॉग बनायेंगे।

अतः हमें ये तय करना होगा की हमारा डोमेन नाम उसी Topic या Niche से सम्बंधित होना चाहिए जिससे की Google के साथ – साथ लोगों को भी हमारे Domain Name से ही पता चल पाए की हमारा ब्लॉग किस विषय पर आधारित है।

हमें ये निश्चित करना होगा की हमारे ब्लॉग का मुख्य टॉपिक क्या होगा जिसके विषय में हम अपने ब्लॉग पर जानकारी Share करेंगे।

ये मुख्य विषय के रूप में कुछ भी हो सकते हैं जैसे की –

  • Education Blog,
  • Affiliate Marketing Blog,
  • Fashion Blog,
  • Entertainment Blog,
  • Technology Blog,
  • Travelling Blog,
  • Food Blog etc.

इस तरह से जिस भी Category से सम्बंधित हमारा ब्लॉग होगा उसी से मिलता – जुलता Domain नाम हम अपने ब्लॉग के लिए ले सकते हैं।

जैसे की हमारे इस ब्लॉग में ‘ब्लॉग्गिंग और करियर’ से सम्बंधित आर्टिकल्स प्रकाशित किये जाते हैं इसीलिए इसका Domain Name ‘Careerguideblog’ रखा गया है जोकि इसके Contents के अनुसार मिलता – जुलता नाम है।

Google के द्वारा Organic Traffic प्राप्त करने का ये सबसे जरुरी तरीका होता है क्योंकि लोग जिस टॉपिक को गूगल पर सर्च करते हैं उसी से सम्बंधित पोस्ट, आर्टिकल और Domain Name ‘Search Engine Result Page’ पर रैंक करता है।

  • Unique Concept के आधार पर चयन 

इन्टरनेट पर कई ऐसे बड़े – बड़े Bloggers के ब्लॉग मौजूद हैं जोकि एक बड़े Brand के रूप में स्थापित हैं और जिनका Monetization Value करोड़ों रूपये में है।

अगर हम सिर्फ इंडियन Bloggers की ही बात करें तो ऐसे कई बड़े और प्रसिद्ध Bloggers हैं जिनका ब्लॉग आज काफी बड़ा Brand बन चुका है और इनके ब्लॉग का Domain Name भी किसी विशेष Niche या Topic से सम्बंधित ना होकर इसी Unique Concept से प्रेरित होकर रखा गया है और काफी Successful भी रहा है।

इस तरह के Unique Concept के ऊपर रखे गये World के कुछ Popular Blogs के Domain Name के उदाहरण हैं ;

  1. अमित अग्रवाल, जिनका ब्लॉग है – Labnol.org
  2. हर्ष अग्रवाल, जिनका ब्लॉग है – Shoutmeloud.com

इस तरह ये कुछ ऐसे टॉप इंडियन Blogs हैं जिनका Domain नाम किसी Related विषय पर नहीं रखा गया है। बल्कि ये पूरी तरह से Unique Concept के आधार पर रखा गया नाम है जिसका न तो कोई मतलब होता है और न ही किसी विशेष Niche से सम्बंधित लगता है।

फिर भी ये Blogs अपने Content के ऊपर बना हुआ Superhit Blogs के उदाहरणों में से एक है।

इस तरह से हम ये समझ चुके हैं की Unique Concept का अनुसरण करके भी अपने ब्लॉग के लिए एक Valuable Domain Name का चयन कर सकते हैं।

सबसे अधिक महत्वपूर्ण होता है किसी ब्लॉग के ऊपर Provide किया जानेवाला एक Unique और Valuable Content जिसकी खोजकर्ता को आवश्यकता है।

फिर भी Unique Concept के ऊपर रखा गया डोमेन Name कैसा होना चाहिए, इसके लिए हमें कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए जोकि हैं –

  1.  Blog Name को 3 शब्दों से अधिक ना रखें –ब्लॉग नाम यानि Domain Name को हमें कम-से-कम शब्दों में रखना चाहिए और ये अधिक-से-अधिक तीन शब्दों का ही होना चाहिए।और अगर Letter की बात की जाए तो ये Maximum 15 Letter तक में सीमित होना चाहिए। अगर हम इससे अधिक Letter का उपयोग करेंगे तो हमारा Domain Name काफी बड़ा लगेगा जोकि ठीक नहीं है।डोमेन Name जितना अधिक Short होगा उसे याद रखने और Type करने में लोगों को उतनी ही अधिक सुविधा होगी।
  2. Top Level Domain (TLD) को ही प्राथमिकता दें –जब हम अपने ब्लॉग या वेबसाइट के लिए एक Domain नाम Purchase करते हैं तो हमारी कोशिश हमेशा ही एक TLD (Top Level Domain) को खरीदने का होना चाहिए।एक Top Level Domain वह होता है जिसका Domain Extension (.com/.net/.org) होता है और इसमें भी हर किसी के लिए पहली प्राथमिकता .कॉम Domain Extension ही होता है क्योंकि यह सबसे Best और सबसे अधिक Popular होता है जिसे हर कोई अपने Domain Name के साथ Connect करना चाहता हैं।अगर हम एक हिंदी ब्लॉग बनाना चाहते हैं जोकि सिर्फ इंडिया और Hindi User को Target करके बनाया गया है तो फिर हमें इसके लिए .in Domain Extension का ही चयन करना चाहिए।इस तरह के Domain Extensions विशेष देश या फिर भाषा के आधार पर बनाये गये Blogs या Websites के लिए Select किया जाता है।ऐसे ही कुछ अलग-अलग देशों के लिए उपयोग किये जाने वाले Domain Extensions के उदाहरण हैं – .us, .au, .uk, .pk, .co.in, .co.us इत्यादि,ये सभी Country Wise Domain Extensions के उदाहरण हैं।

Top Blogs Name की Copy –बहुत सारे नए Bloggers जिन्हें ब्लॉग्गिंग का अधिक अनुभव नहीं होता है और जो दुसरे बड़े – बड़े और Successful Bloggers के ब्लॉग को देखते हैं तो उनके मन में ये विचार आता है की वे अगर उनके ब्लॉग से मिलता जुलता Domain नाम रख लेंगे तो लोग उनके ब्लॉग पर आने लगेंगे और वो भी उनकी तरह Successful हो जायेंगे।मगर ऐसा होता नहीं है जो Brand Name पहले से बना होता है उसकी कॉपी Name गूगल पर कभी भी उसकी जगह नहीं ले सकता है।अगर हम मिलता जुलता नाम अगर रख भी लेते हैं तब भी हमें उसे रैंक करवाने के लिए उसपर वैसे ही मेहनत करना होगा जैसा की अन्य पर करना पड़ेगा।

उसपर भी हमें Valuable और Unique Content Provide करना होगा जिससे की उसपर Organic Traffic आ सके। अगर Content Copied होगा तो Google उसे कभी रैंक नहीं करेगा।

डोमेन Name Purchase कर लेने के बाद एक वेबसाइट या ब्लॉग बनाने के लिए दूसरा Step जो होता है वह है – Web Hosting का।

इसके विषय में हम अगले लेख में पढ़ेंगे।

इसे भी अवश्य पढ़ें

जय हिन्द ! जय भारत !

सबका साथ, सबका विकास !!!

Follow Me

Leave a Comment